क्या है कोरोना वायरस (Covid-19)- कैसे पहुंचाता है शरीर को नुकसान और कैसे वैक्सीन बचाती है इससे

0
78
कोरोना वायरस
कोरोना वायरस

दोस्तों आज के इस भयानक माहौल में हमारी आज की ये पोस्ट. क्या है कोरोना वायरस (Covid-19)- कैसे पहुंचाता है शरीर को नुकसान और कैसे वैक्सीन बचाती है इससे. आपको चारों तरफ की नकारात्मक खबरों के बीच एक सुकून भरी जानकारी देगी. कोरोना वायरस जो Covid-19 के नाम से जाना जा रहा है. एक जानलेवा वायरस है जो सक्रमित व्यक्ति की जान भी ले सकता है.

भारत में इस समय इस महामारी की दूसरी लहर अपना प्रकोप ढा रही है. और चारों तरफ से हमें केवल नकारात्मक खबरें ही मिल रही हैं. कैसे कोरोना वायरस शरीर पर अटैक करता है. कैसे कोरोना से व्यक्ति की मौत हो जाती है. और कैसे कुछ लोग स्वतः ही इससे ठीक हो जाते हैं. बहुत से लोग अपने प्रियजनों को इस बीमारी की वजह से खो चुके हैं. अस्पतालों में जगह नहीं बची है और दवाओं और ओक्सीजन की किल्लत हो चुकी है.

लेकिन इस सब के बीच राहत की बात यह है कि अब कोरोना की वैक्सीन आ चुकी है. और लोगों को लगनी शुरू भी हो चुकी है. अब तो सरकार ने ये फैसला किया है कि उन सभी व्यक्तियों को वैक्सीन लगाई जायेगी जो 18 साल से ऊपर के हैं.

वैक्सीन आने के साथ ही जैसा कि हमारे देश में होता है. इस बार भी हुआ इसके बारे में तरह-तरह की अफवाहें लोगों ने फैलानी शुरू कर दीं. लेकिन यहां हम आपको बताएंगे वैक्सीन की असली जानकारी कैसे काम करती है वैक्सीन. पर इससे पहले जानते हैं. कि कोरोना वायरस यानि कि Covid-19 क्या है और यह कैसे शरीर को नुकसान पहुंचाता है.

क्या है कोरोना वायरस- What is Corona Virus

What is Covid-19 जी हां यह शब्द आज हर एक जुबान पर है. चारों तरफ के माहौल को और इस बीमारी में मची अफरा-तफरी को देखकर यही दिमाग में आता है. कि आखिर क्या है ये कोरोना वायरस.

कोरोना एक ऐसा वायरस है. जो दो चीजों से बना होता है. जैसा कि आप सभी ने आजकल चारों तरफ छप रही कोरोना वायरस की फोटो में देखा है. यह एक गोल बॉल जैसे आकार का होता है जिस पर बाहर की तरफ नुकीले उभार निकले रहते हैं.

जो भाग इसका बाहर की तरफ नुकीला निकला होता है. उसे स्पाइक प्रोटीन कहते हैं. और यह इस वायरस का सबसे घातक भाग होता है. अगर इस वायरस से इस स्पाइक प्रोटीन को हटा दिया जाय तो यह वायरस बहुत कमजोर हो जायेगा. कहने का मतलब बिना इस नुकीले निकले स्पाइक प्रोटीन के यह वायरस बिलकुल भी खतरनाक नहीं है.

और दूसरा भाग होता है इसके बॉल के अन्दर वाला भाग. जिसे जेनेटिक मटेरियल (RNA) कहते हैं. और यही भाग है जो इसकी जनसख्या बढ़ाने में मुख्य भूमिका निभाता है. इसी जेनेटिक मटेरियल की मदद से यह वायरस तेजी से लाखों करोड़ों में अपनी तादाद बढ़ा लेता है.

स्पाइक प्रोटीन ही इस वायरस की वो ताकत है जिसकी मदद से यह हमारे शरीर में अन्दर फेफड़ों में घुस सकता है.

ये भी पढ़ें- क्या आपका मन शांत नहीं है, अन्दर से बेचैन है शांति चाहिए तो ये करें उपाय

ये भी पढ़ें- सफलता पानी है या प्रमोशन तो ये करें

शरीर को कैसे नुकसान पहुंचाता है कोरोना वायरस

अब आपको देते हैं सबसे महत्वपूर्ण जानकारी. कि आखिर कोरोना वायरस शरीर को नुकसान कैसे पहुंचाता है. कोरोना वायरस हमारे शरीर के सेल में कहीं से भी प्रवेश नहीं कर सकता सिवाय फेफड़ों के.

हमारे फेफड़ों के जो सेल होते हैं वो काफी सेंसिटिव होते हैं. उसमें भी जो सेल मेम्ब्रेन होते हैं वहां से यह वायरस बिलकुल भी अन्दर प्रवेश नहीं कर पाता. क्योकि हमारे फेफड़ों के जो सेल मेम्ब्रेन होते हैं वह केवल कुछ खास चीज को ही अपने अन्दर जाने देते हैं. जैसे कि विटामिन प्रोटीन आदि.

बाकी की चीजों के लिए हमारे फेफड़ों में कुछ रिसेप्टर होते हैं, कुछ टिश्यू होते हैं. जिनकी मदद से हमारा शरीर बाहर की चीजों को अन्दर ग्रहण करता है.

कोरोना वायरस जो है अपने स्पाइक प्रोटीन वाले नुकीले उभार की मदद से उन्हीं रिसेप्टर पर चिपक जाता है. और इन्ही की मदद से फेफड़ों के अन्दर चला जाता है.

और यहां से शुरू होती है असली परेशानी. अन्दर आकर यह वायरस हमारे शरीर के बहुत ही महत्वपूर्ण भाग Ribosome (राइबोसोम) की मदद से तेजी से अपनी जनसख्या बढ़ाता है. Ribosome हमारे शरीर का वह भाग है जो प्रोटीन का निर्माण करता है. यहीं यह बहरूपिया वायरस अपने स्पाइक प्रोटीन की मदद से हमारे Ribosome को धोखा देकर अपने जैसे और वायरस का निर्माण हमारे शरीर की मदद से ही कर लेता है.

इस तरह हमारे फेफड़ों में तेजी से लाखों वायरस पनप जाते हैं. और हमारे फेफड़ों को चोक करना शुरू कर देते हैं. खून में प्रवेश करके पूरे शरीर में दौड़ने लगते हैं. व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होने लगती है. और इस जगह आकर जिन व्यक्तियों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है. वायरस से लड़ने के लिए जल्दी ही एंटीबॉडी का निर्माण नहीं कर पाता ऐसे मरीजों की मौत हो जाती है.

हमारा इम्यून सिस्टम कैसे लड़ता है कोरोना वायरस से

जैसे ही हमारे Ribosome की मदद से कोरोना वायरस अपनी जनसख्या बढ़ाता है. हमारे फेफड़ों में चारों तरफ वायरस ही वायरस हो जाते हैं. हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम तुरंत अलर्ट पर आ जाता है. उसे लगता है कुछ गलत बाहरी आक्रमणकारी है जो शरीर में घुस आया है.

कोरोना वायरस
कोरोना वायरस

और हमारे शरीर के सैनिक यानि की एंटीबाडी इस बाहरी आक्रमणकारी वायरस को मारना शुरू कर देते हैं. फेफड़ों में जो सैनिक एंटीबाडी और आक्रमणकारी वायरस में युद्ध होता है उससे हमारे अन्दर का माहौल गर्म होता है. उसी से हमारे शरीर में बुखार हो जाता है. हमारे शरीर में जब अन्दर कुछ उथल-पुथल होती है वही बुखार की मुख्य वजह होती है. मतलब कि हमारा शरीर किसी गलत चीज से लड़ रहा होता है.

अब यहां एक चीज अलग हो रही होती है. हमारे शरीर में जितने एंटीबाडी है. वो जितने वायरस को मार रहे होते हैं. वायरस उससे कहीं ज्यादा गति से पैदा हो रहा होता है. और वो हमारे इम्यून सिस्टम पर ही हावी होने लगता है. उसके काबू में नहीं आ पा रहा होता.

तब हमारे शरीर का दूसरा मुख्य सिस्टम न्यूक्लियस संकेत देता है. कि इस वायरस को मार-मार के ख़त्म नहीं किया जा सकता. जितने वायरस मारे जा रहे हैं उससे ज्यादा पैदा हो रहे हैं. इसीलिए हे इम्यून सिस्टम तुम खूब सारे एंटीबाडी बनाओ.

फिर हमारा इम्यून सिस्टम खूब सारे एंटीबाडी पैदा करता हैं. और वो एंटीबाडी चारों तरफ से वायरस पर आक्रमण कर देते हैं. अब जितने वायरस पैदा नहीं हो पाते उससे ज्यादा मर रहे होते हैं. इस तरह संक्रमण ख़त्म हो जाता है.

कोरोना वायरस से किसकी मौत होती है और क्यों

जैसा कि हमने ऊपर आपको बताया. जैसे ही हमारे शरीर में वायरस प्रवेश करता है. हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम यानि कि डिफेन्स मकेनिज्म उससे लड़ने लग जाता है. जिस वजह से शरीर में बुखार होता है.

लेकिन जितनी संख्या में वायरस पैदा होते हैं. तो हमारा इम्यून सिस्टम उसी अनुपात में खूब सारे एंटीबाडी बनाता है. एंटीबाडी हमारे शरीर के वो सैनिक होते हैं. जो किसी भी बीमारी से लड़ते हैं.

अब जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है. वो जल्दी ही और भरपूर मात्रा में एंटीबाडी नहीं बना पाता. अब हमारे शरीर के सैनिकों से दुश्मन यानि की वायरस की संख्या अधिक होने लगती है. और वह हमारे डिफेन्स मेकेनिज्म को ध्वस्त कर देता है. फेफड़ों पूरी तरह नष्ट होने लगते हैं. शरीर में ओक्सीजन की कमी होने लगती है. और धीरे-धीरे मरीज की मृत्यु हो जाती है.

अतः कोरोना वायरस से उन्हीं मरीजों की मृत्यु होती है. जिनका डिफेन्स मकेनिज्म यानि कि इम्यून सिस्टम कमजोर होता है.

ये भी पढ़ें- ऐसे करें अनचाहे फेसबुक अकाउंट को डिलीट

कोरोना वायरस
कोरोना वायरस

वैक्सीन क्या है और यह कैसे कोरोना वायरस से बचाती है

दोस्तों वैक्सीन मतलब टीका जो कि कोरोना बीमारी से बचाव का एकमात्र उपाय है. वो भी एंटीबाडी वाली थ्योरी पर काम करती है.  कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) और कुछ नहीं करता वैक्सीन सिर्फ हमारे शरीर में एंटीबाडी बनाने का काम करता है. जिससे वायरस शरीर में घुसते ही मार दिया जाए.

वैक्सीन भी वायरस का ही एक रूप होता है. यानि की कोरोना से बचने के लिए शरीर में नकली कोरोना डाला जाता है. नकली मतलब कमजोर. होता क्या है कि कोरोना वायरस एक RNA वायरस होता है. जैसे हमारा शरीर DNA से बना होता है. वैसे ही वायरस का RNA से.

अब वैज्ञानिकों ने कोरोना का RNA लेकर कमजोर करके एक नकली कोरोना बनाया होता है. और उसमें केमिकल मिला दिए जाते हैं. इसे ही वैक्सीन कहते हैं. अब इस वैक्सीन मतलब कोरोना के कमजोर RNA को वैक्सीन के रूप में इंजेक्शन से शरीर में डाला जाता है.

जैसे ही वायरस का RNA शरीर में पहुंचता है. हमारा इम्यून सिस्टम अलर्ट हो जाता है. उसे लगता है शरीर पर किसी बाहरी आक्रमणकारी शत्रु ने आक्रमण किया है. उसे नहीं पता होता कि ये नकली वायरस है जो शरीर का कुछ नहीं बिगाड़ सकता.

हमारा इम्यून सिस्टम उसे असली वायरस समझ कर उससे लड़ने के लिए एंटीबाडी पैदा करता है. इसीलिए कभी-कभी वैक्सीन लगवाने के बाद कुछ लोगों को बुखार आता है. और इस तरह हमारे शरीर में इतने एंटीबाडी हो जाते हैं. कि जब कभी भी शरीर पर असली कोरोना वायरस आक्रमण करता है. वो एंटीबाडी तुरंत उसे मार गिराते हैं.

तभी तो वैक्सीन लगवाया हुआ व्यक्ति जब कभी भी कोरोना संक्रमित हो भी जाता है. तो आसानी से ठीक हो जाता है. उस केश में उसकी मृत्यु नहीं हो सकती.

ये भी पढ़ें- अगर आप भी खर्राटों से परेशान हैं तो ये है आसान उपाय

Conclusion

दोस्तों आपको आज की हमारी ये पोस्ट क्या है कोरोना वायरस (Covid-19)- कैसे पहुंचाता है शरीर को नुकसान और कैसे वैक्सीन बचाती है इससे कैसी लगी. हमारी हमेशा यही कोशिश रहती है कि आप तक कोरोना वायरस की सही जानकारी पहुंचाई जाय. अगर आपका कोई सुझाव या आपको ये पोस्ट कैसी लगी ये हमें कमेंट बॉक्स में कमेन्ट करके जरुर बताएं.

आज के भय वाले माहौल में कोरोना वायरस की और वैक्सीन की सही जानकारी होना बहुत जरुरी है. अतः आप अपने मिलें वालों और दोस्तों तक ये जानकारी पहुँचाने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया लिंक जैसे Facebook, WhatsApp पर क्लिक करके ये पोस्ट जरुर शेयर करें.

…….धन्यवाद

…….शेयर जरुर करें पुण्य मिलेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here